शनिवार, 3 नवंबर 2012

डॉ बच्चन पाठक 'सलिल' की दो कवितायेँ





वेदना 




कैक्टसों की वे सुरक्षा कर रहे 
जूही सुकोमल आज है पछता रही ।
अब न देती मदिर सौरभ रात की रानी यहाँ 
गंध जहरीली हवा में बिन बुलाये आ रही ।
पी चुकी पिछली सदी है अर्थवत्ता शब्द की 
बेतुके शब्दों की सेना आज कविता पा रही ।
वन्दिनी कविता बनी है आज खेमों में 
है कला विकला बनी आज वह चिल्ला रही ।
मत करो कविता प्रदूषित अन्यथा पछताओगे 
सयंमित हो भारती सबको यही बतला रही ।

यात्री से 
     
इस सफ़र से यों नहीं घबराइए 
सफ़र लम्बा मुस्कुराते जाइए ।
एक दिन गंतव्य भी मिल जायेगा 
हर कदम आगे बढाते जाइए  ।
आपके भी बाद जाएँ  पर्यटक
राह के कंटक हटाते जाइए  ।
सुरा महँगी और जहरीली हुई 
आँख से मदिरा पिलाते जाइए ।
राह में बदबू प्रदुषण से भरी 
प्यार का सौरभ बहाते जाइए ।
ध्यान रखें शत्रु कोई न बनें 
मित्रता पर आजमाते जाइए ।
'सलिल' सब साधन यहाँ पाथेय है 
हमसफ़र में कुछ लुटाते जाइए ।





 डॉ बच्चन पाठक 'सलिल


1 टिप्पणी:

  1. "mat kro kavita pardushit,anytha pachhtaoge,saymit ho bharti sabko yhi batla rhi" "vedna " aur "yatree se"dr salil ji dwara rachyit dono hi rachnaen bhawpooran aur behad khoobsurat hai,sunder likhne ke liye badhai ho salil ji.

    उत्तर देंहटाएं